Savitribai Phule jayanti 2024: आज है सावित्री बाई फुले की जयंती, लड़कियों के लिए खोला था देश का पहला स्कूल | Clear Update

2
82

परिचय

आज हम सावित्री बाई फुले की जयंती के अवसर पर उनके जीवन और उनके महत्वपूर्ण कार्य के बारे में विचार करने के लिए इस लेख का आयोजन कर रहे हैं। सावित्री बाई फुले ने न केवल महिला शिक्षा को बढ़ावा दिया बल्कि उन्होंने एक मजबूत सामाजिक कार्यकर्ता और आदर्श स्त्री के रूप में अपना नाम किया। इस लेख में हमने कुछ महत्वपूर्ण तत्वों को कवर किया है जो उनके जीवन और कार्य की घटनाओं को प्रकट करते हैं।

जीवन और शिक्षा

यहां हम जानेंगे कि सावित्री बाई फुले का जीवन कैसा था और कैसे उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में अपने महत्वपूर्ण संघर्षों के माध्यम से अपना योगदान दिया।

Read Also: Virat Kohli के अनुभव से प्रेरणा लेकर पाकिस्तानी स्पिनर Mushtaq Ahmed ने Babar Azam को खराब फॉर्म से उबरने के लिए सुझाव दिया |…

बालिका और युवावस्था

सावित्री बाई फुले का जन्म 3 जनवरी 1831 में महाराष्ट्र के नाॅगांव नामक गांव में हुआ था। उनके बचपन का समय कठिन था, उन्होंने मुक़ाबला किया है गरीबी, अपराध, और नारी हित के मसैलों से। हालांकि, उस समय भारतीय महिलाओं के आदिकाल में उन्हें शिक्षा प्राप्त करने की अनुमति नहीं थी, फिर भी सावित्री ने खुद को शिक्षित करने का संकल्प बना लिया। उन्होंने एक नार्मल स्कूल में प्रवेश किया और अल्प समय में खुद को एक अद्यतन विद्यालय में स्वरूपित करने की क्षमता दिखाई।

Read Also: Welcome 2024 | नए साल में दिमाग को आराम देने के 7 आसान उपाय | Clear Update

महिला शिक्षा के प्रचारक

सावित्री बाई फुले ने समाज में महिला शिक्षा के प्रचारक के रूप में अपना नाम किया। उन्होंने महिलाओं के लिए एक आश्रम स्थापित किया जहां पराया बच्चों का पाठयक्रम चला जाता था और उन्हें मुफ़्त शिक्षा का लाभ मिला। सावित्री बाई की मेहनत और संघर्ष ने महाराष्ट्र में एक आंदोलन प्रारंभ किया, जिसने महिलाओं को शिक्षित करने का एक नया मार्ग दिखाया।

Read Also: Xiaomi Redmi Note 13 | Specifications | DRT

देश के पहले स्कूल का संस्थापन

एक महिला शिक्षा के महत्व को समझते हुए, सावित्री बाई फुले ने देश के पहले लड़कियों के लिए एक स्कूल का आवागमन किया। 1848 में, उन्होंने लांबर्डाईन चौक, पुणे में एक पाठशाला खोली, जहां बालिकाओं को पढ़ाया जाता था। इससे पहले, केवल लड़कों को ही एक्सेस शिक्षा का लाभ मिलता था, इसलिए इस स्कूल का स्थापना बहुत बड़ी बात थी। सावित्री बाई फुले के स्कूल में एक व्यापक पाठ्यक्रम, शिक्षा और सामाजिक उत्सवों के साथ-साथ गरीब और वंचित वर्गों के लिए भी मुफ़् भोजन की व्यवस्था की गई

Read Also: Vivo X Fold 3 Pro | Specifications | DRT

समापन

इस लेख में हमने सावित्री बाई फुले की जयंती के मौके पर उनके जीवन और उनके महत्वपूर्ण कार्य के बारे में विस्तार से चर्चा की है। सावित्री बाई फुले ने महिला शिक्षा को प्रोत्साहित किया और देश के पहले स्कूल का संस्थापन किया, जिससे गर्भवती महिलाओं को एक सच्ची आज़ादी मिली। उनके महत्वपूर्ण कार्य ने समाज को गाइड किया और हमें एक शिक्षित, समर्पित और सशक्त महिला की ओर आग्रह किया।

“महिला शिक्षा का एक सामाजिक एवं आर्थिक शिक्षा से नहीं, असंगठित और तबाह व्यक्तित्त्व से होता है।”

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here